पृष्ठ:गुप्त-निबन्धावली.djvu/१६८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


हिन्दीमें बिन्दी 'सरस्वतो' पत्रिकाके देखनेहीसे हमें नागरी प्रचारिणीवालोंकी 'बिन्दी' का खयाल आया है। उक्त पत्रिकामें लेखकोंके लिये जो नियम लिखे गये हैं, उनके पांचव नियममें लिखा है-"लेख लिखने में उन्हीं नियमोंका पालन हो, जो काशी नागरीप्रचारिणी सभाने सर्व-सम्मतिसे निश्चय किया है ।” इसमें ऊपर 'नियमों' है और नीचे किया है' है । ___ यदि इसी नियमपर हिन्दोवाले चल पड़े, तो बीचहीमें बेड़ा पार हो जावेगा। इसीसे हमें सावधान करना पड़ा है कि लेखक लोग आंख खोलकर चलं, नागरी-प्रचारिणीकी लकड़ी पकड़करही न चलें। सर- स्वती' पत्रिकामें “मोगल" शब्द लिवकर 'ग' के नीचे बिन्दी लगाई गई है। बिन्दोका तो खयाल किया है, परन्तु शब्दके ठीक उच्चारणका कुछ भी विचार नहीं किया कि शब्द “मुगल" है-“मोगल" नहीं है। गीतका बहुवचन 'गीत' करके उसे स्त्रीलिङ्ग लिखा है। नागरी प्रचारिणीके नियम- पर चलनेसे पुलिङ्ग गोतको स्त्रीलिङ्ग लिखना पड़ेगा। 'बाजार' शब्दका उच्चारण नागरी-प्रचारिणीवाले जानते थे, इससे उसके नीचे विन्दी लगा दी है। परन्तु 'तहकीकात' शब्द 'सरस्वती' के पांचवें पृष्ठपर दो जगह आया है, वह दोनों जगह बिन्दो-शून्य है। यह चार बिन्दियाँ हमारो नागरी-प्रचारिणी सभाके माथे हुईं। ___'सरस्वती' में एक जगह शेख सादीका नाम आया है। शेखमें जो 'ख' है, उसके नीचे बिन्दी है ; परन्तु शादीके बीच में जो ऐन' है, उसका लेखकने 'गैन' कर दिया है। उधर शेख शब्द भी 'शेख' नहीं है, वह अरबी भाषाका शब्द है -वह होता है 'शेख' । जब शुद्ध उच्चारण करना था, तो इन शेखजी बिचारे को मिट्टी खराब क्यों की ? उर्दूमें 'ते' होती है, तोय' होती है। दोनोंके उच्चारणमें नागरी-प्रचारिणी सभाने क्या भेद रखा है, सो हमें मालूम नहीं। 'से', 'सीन', और 'स्वाद', इन तीन अक्षरोंका उच्चारण एकही-सा होता है। इसमें आपलोग क्या भेद [ १५१ ]