पृष्ठ:गुप्त-निबन्धावली.djvu/६६१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


शोभा और श्रद्धा मेघ मनावनि आवहु आवहु मेघ कहां तुम छाय रहे निज प्रेमिन कहं भूलि कहां बिलमाय रहे ? आवहु आवहु भारतके जीवन-धन प्रान ताकि रहे टक लाये तेरी ओर किसान । या बूढ़े भारत कहं दूजी और न आस स्वाति बिना चातककी कौन बुझाबे प्यास । तुम बिन या भारतको दुजो और न कोय सांच कहैं तुम्हरे आगे क्यों राखें गोय ? धूरि उड़त चारहुं दिस सूखे खेत परे आवहु आवहु फेरि करो इकबार हरे । धावहु हे घन ! जावहु पुनि खेतन पर छाय देहु न किन मोतिन सम निज जलकन बरसाय ? आवहु पुनि बसुधाकी पूरी आस करो हरे हरे खेतनसों वाकी गोद भरो। तेरे भारतवासिनकी है एक लकीर बने भये हैं वाहीके जो सदा फकीर । जो घर बन बोहड़ महं राखत तुम्हरी आस मो सब सीस झुकाये बैठे निपट उदास । जो तुम्हरे बल रहते हे घन ! सदा निसङ्क देखहु किन, सो आज भये रङ्कहुते रङ्क। Pr1