पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/१०३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


दृश्य १.] चांदी की डिबिया उधर [ मिसेज़ में इन सावरेन ले लेती हैं और इधर घुमाती है।] जोन्स [ जूते की तरफ़ आँख किये हुए ] तुम्हें अचरज हो रहा होगा, क्यों ? मिसेज सेडल तुमको बहुत बहुत धन्यवाद ! तुमने मेरे ऊपर बड़ी कृपा की। [ वह सचमुच विस्मित हो जाती है । मैं रेज़गी लाए देती हूँ। जोन्स [मुह बनाकर] इसकी क्या जरूरत है ? ९५