पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/११०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
चाँदी की डिबिया
[ अड़्क १
 

होता। लेकिन हैं तो यह तुम्हारे ही लड़के, और मुझे तुम्हारे मुंह से ऐसी बातें सुनकर अचरज होता है। अगर मेरे पास यह न रहें तो मेरा तो ज़रा भी जी न लगे।

जोन्स

[ घुन्नाया हुआ ]

यही सब का हाल है। अगर मैं वहाँ कुछ कमा सका---


[ उसे अपना कोट हिलाते देखकर, कठोर स्वर में ]

कोट मत छुओ।

[ चांदी की डिबिया जेब से गिर पड़ती है और सिगरेट चारपाई पर बिखर जाते हैं। डिबिया को वह उड़ा लेती है और उसे ध्यान से देखती है। वह झपटकर उसके हाथ से डिबिया छीन लेता है। ]

मिसेज़ जोन्स

[ चारपाई को टेककर झुकी हुई ]

ओ जेम! ओ जेम!

१०२