पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/११०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


'चांदी की डिबिया होता । लेकिन हैं तो यह तुम्हारे ही लड़के, और मुझे तुम्हारे मुंह से ऐसी बातें सुनकर अचरज होता है। अगर मेरे पास यह न रहे तो मेरा तो ज़रा भी जी न लगे । जोन्स [घुनाया हुआ ] का हाल है । अगर मैं वहाँ कुछ कमा यही सब सका- [ उसे अपना कोट हिलाते देखकर, कठोर स्वर में ] कोट मत छुओ। [ चांदी की डिबिया जेब से गिर पड़ती है और सिगरेट चारपाई पर बिखर जाते हैं । डिबिया को वह उड़ा लेती है और उसे ध्यान से देखती है । वह झपटकर उसके हाथ से डिबिया छीन लेता है। ] मिसेज जोन्स [ चारपाई को टेककर झुकी हुई ] श्रो. जेम ! ओ जेम ! १०२