पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/११५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
दृश्य २ ]
चाँदी की डिबिया
 

मैं पुलीस का अफसर हूँ। तुम्हीं मिसेज़ जोन्स हो?

मिसेज़ जोन्स

जी हां।

स्नो

मुझे हुक्म है कि तुम्हें जे० बार्थिविक, मेम्बर पार्लेमेण्ट नं० ६ राकिंघम गेट की यह डिबिया चुरा लेने के अपराध में पकड़ लूं। तुम्हारा बयान ठीक न हुआ तो तुम फंस जावगी क्या कहती हो?

मिसेज़ जोन्स

[ धीमे स्वर में। वह अभी तक हांफ रही है और छाती पर हाथ रखे हुये है ]

मैं सच कहती हूँ, साहब, मैंने इसे नहीं लिया।

मैं पराई चीज कभी छूती ही नहीं मैं इसके बारे में कुछ नहीं जानती।

स्नो

'तुम आज सवेरे वहाँ गई थीं, जिस कमरे में

१०७