पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/११५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


दृश्य २] चाँदी की डिबिया मैं पुलीस का अफसर हूँ। तुम्हीं मिसेज़ जोन्स हो ? मिसेज़ जोन्स जी हां । स्नो मुझे हुक्म है कि तुम्हें जे० बार्थिविक, मेम्बर पार्ले- मेण्ट नं. ६ राकिंघम गेट की यह डिबिया चुरा लेने के अपराध में पकड़ लू । तुम्हारा बयान ठीक न हुआ तो तुम फंस जावगी क्या कहती हो ? मिसेज़ जोन्स [ धीमे स्वर में । वह अभी तक हांफ रही है और छाती पर हाथ रखे हुये है ] मैं सच कहती हूँ, साहब, मैंने इसे नहीं लिया । मैं पराई चीज कभी छूती ही नहीं मैं इसके बारे में कुछ नहीं जानती । स्नो 'तुम आज सवेरे वहाँ गई थीं, जिस कमरे में