पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/१२३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


दश्य २] चांदी की डिबिया बार्थिविक हाँ बात तो ठीक थी लेकिन मैं यह नहीं सोच रहा था जैक [ छेड़ने के लिए। दादा, सरौता [ बाणिविक सरौता बढ़ा देता है | मिसेज़ बार्थिविक लेडी होलीरूड ने मुझसे कहा -" मैंने उसे बुला- या और उससे कहा, फ़ौरन मेरे घर से निकल जा । मैं तुम्हारे चालचलन को निंदनीय समझती हूँ। मैं कह नहीं सकती। मैं नहीं जानती, और न में जानना चाहती है कि तुम क्या कर रही थीं। मैं सिद्धांत की रक्षा के लिए तुम्हें अलग कर रही हूं। मेरे पास सिफारिश के लिए मत भाना।" इस पर उस लड़की ने कहा- -