पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/१६४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


[ तूत उसे दिखाई और तुम्हारी दशा इतनी खराब थी कि तुम्हें ये बातें बिलकुल याद नहीं, तो- रापर [जल्दी से] मुझे खुद कोई बात याद नहीं रहती। याददाश्त इतनी कमजोर है। बार्थिविक [निराशा भाव से तो मैं नहीं जानता कि तुम्हें क्या कहना पड़ेगा ! रोपर [ जैक से 7 तुम्हे कुछ कहने की ज़रूरत नहीं। अपने को इस झमेले में मत डालो। औरत ने चोज़ चुराई या मर्द ने चीजे चुराई आपको इससे कुछ मतलब नहीं। आप तो सोफी पर सो रहे थे।