पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/१६७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


चाँदी की डिबिया जैक [बनावटी प्रसन्नता से] बड़ी इनायत है ! में यही चाहता हूँ कि मुझे वा जाना न पड़े। [ सिर पर हाथ रखकर ] मुझे क्षमा कीजिएगा । अाज सिर में ज़ोरों का दर्द है। [बाप की तरफ से माँ की तरफ देखता है ] मिसेज़ बार्थिविक [ जल्दी से घूम कर ] अच्छा, जाओ बेटा! जैक श्रच्छा, अम्माँ ! वह चला जाता है। मिसेज़ा आर्थिविक लम्बी सांस खींचती है। सन्नाटा हो जाता है।] बार्थिविक यह बहुत सस्ते छूट गए ! अगर मैंने उस औरत को