पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/१८३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


दृश्य चांदी की डिबिया [बाप से] तुम कहते हो कि वह घर से निकल गई और इन लड़- कियों को छोड़ गई। तुम इनके लिए क्या इन्तजाम कर सकते हो? तुम देखने में तो हट्टे-कट्टे आदमी हो! लिस हाँ, हजूर, हट्टा-कट्टा तो हूं, और काम भी करना चाहता हूँ, लेकिन अपना कोई बस नहीं। कहीं मजदूरी मिले तब तो? मैजिस्ट्रेट लेकिन तुमने कोशिश की थी? लिस हजूर, सब कुछ करके हार गया! कोशिश करने में कोई कसर नहीं उठा रखी। मैजिस्ट्रेट अच्छा---