पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/२२५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


दृश्य १ चांदी की डिबिया मैजिस्ट्रेट अगर तुम्हारे पास इतने रुपए थे तो तुम ने डिबिय क्यों ली? जोन्स मैंने इसे जलन की वजह से ली। मैजिस्ट्रेट [ गर्दन बढ़ा कर ] तुमने इसे जलन की वजह से लिया ? खैर, यह एक बात है। लेकिन क्या तुम खयाल करते हो कि तुम जलन की वजह से दूसरों की चीजें लेकर शहर में रह सकते हो? जोन्स अगर आपकी हालत मेरी सी होती, अगर आप भी चेकार होते- मैजिस्ट्रेट हाँ हाँ, मैं जानता हूं । चूँकि तुम बेकार हो, तुम समझते हो कि चाहे तुम जो कुछ करो, माफ हो जायगा । '२१७