पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/२३३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


श्य १] चांदी की डिबियाय उसके फेर में पड़ कर दूसरों की बुराई करते हैं वे समाज के शत्रु जैक हैं [अपनी जगह पर झुक कर] दादा ! यही तो आपने मुझसे भी कहा था। बार्थिविक चुप! [सब चुप हो जाते हैं। मैमिस्टे ट क्लार्क से राय लेता है । जे भागे झुका हुआ प्रतीक्षा करता है।] मैजिस्ट्रेट यह तुम्हारा पहला कसूर है और मैं तुम्हें हल्की - देना चाहता हूँ। [तीय स्वर में लेकिन बिना कोई भाव प्रकट किए हुए ] एक महीने की कड़ी कैद। [वह झुक कर क्लार्क से बातें करता है । गंजा कांस्टेबिल और एक दूसरा सिपाही मिल कर जोन्स को कठघरे से ले जाते हैं ] जोन्स [ रुककर और पीछे हट कर] २२५