पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/५२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
चाँदी की डिबिया
[ अड़्क १
 

नहीं। मैं सच कहती हूँ मेरा इरादा बिलकुल नहीं है कि कोई झमेला हो।

[ उसका चेहरा काँपने लगता है ]

लेकिन---लेकिन---मेरे सब रुपए उसी बटुए में थे।

बार्थिविक

किस चीज़ में--+किस चीज़ में?

अपरिचित

मेरे बटुए में एक छोटी सी थैली में रखे हुए थे। लाल रंग की रेशमी थैली थी। सच कहती हूँ, मैं न आती---मैं कोई झमेला नहीं करना चाहती। लेकिन मुझे रुपए मिलने चाहिए, कि नहीं?

बार्थिविक

क्या आपका यह मतलब है कि मेरे बेटे ने---?

अपरिचित

जी समझ लीजिए, वह अपने........मेरा यह मतलब कि

वह---

४४