पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/९२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
चाँदी की डिबिया
[ अड़्क १
 

मिसेज जोन्स

जी नहीं, मैंने नहीं देखी। अगर मैं देखती तो कह देती।

बार्थिविक

[ उसे उड़ती हुई निगाह से देखकर ]

भूल तो नहीं रही हो? खूब याद कर लो।

मिसेज़ जोन्स

[अविचलित होकर ]

खूब याद कर लिया।

[ धीरे से सिर हिलाकर ]

मैंने नहीं देखा और न जानती हूँ कि कहां है।

[ चुप चाप चली जाती है ]

[ बार्थिविक, उसका बेटा, और पत्नी एक दूसरे की ओर कनखियों से देखते हैं ]

परदा गिरता है

८४