पृष्ठ:जायसी ग्रंथावली.djvu/२७७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
९५
गंधर्वसेन मंत्री खंड

प्रीति बेलि अरुझे जबतब सुह सुख साख।
मिलै पिरीतम आाड़ के, दाख बेलि रस चाख १६।
पदमावत अउठि टे पाया। तुम्ह ढंत देख पीतम छाया ॥
कहत लाज औी रहै न जीऊ। एक दिसि आागि दुसर दि िपीछ॥
उदयगिरि चढ़त भुलाना। गहने गहा, कंवल कुंभिलाना ॥
औोहट होइ मर्के तौ शुरी। यह सुठि मॐ जो नियरन दूरी
घट महें निकटविकट होइ मैरू। मिलहि न मिले, परा तस फेरू ॥
तुम्ह सो मोर खेवक रु देवा। उतरी पार तेही विधि सेवा ।॥
दमनहि नलहि जो हंस मेरावा। तुम्ह हीरामन नाँव कहावा ॥
मूरि सजीवन दूरि है, साले सकती बा
प्रोन म् कुत अब होत है, बेगि देखावह भानु ।1१७।
हीरामन भुईं धरा लिलाटू। तुम्ह रानी जुग जुग सुखपादू ॥
जेहि के हाथ सजीवन मूरी। सो जानिय अब नाहीं दूरी ॥
तुम्हार राज कर भौगी। पूछे बिन मराव जोगी ॥
पौंरि पौंरि कोतवार जो बैठा । पैम क लुबुध सुरंग होइ पैठा ॥
चढ़त रैनि गढ़ होइगा भोरू। आावत बार धरा के चोरू ।
अब लेइ गए देइ मोहि सूरी। तेहि सौ अगाह विथा तुम्ह पूरी ॥
अब तुम्ह जिउ काया वह जोगी । कया क रोग जानु पे रोगी ।
रूप तुम्हार जीउ है (थापन) पिंड कमावा फेरि
आा हाइ रहा, तेहि काल रि 1१८
हीरामन जो बात यह कही । सूर के गहन चाँद तब गही ॥
सूर के दुख सीं ससि भइ दुखी । सौ कित दुख माने करमुखी ? ॥
अब जो जोगि मरे मोहि नेहा। मोहि मोहि साथ धरति गगनेहा ।
रहै त करों जनम भरि सेवा। चले त, यह जिउ साथ परेवा ॥
कईसि कि कौन करा है सोई। पर काया परदेस जो होई ॥
पलटि सो पंथ कौन विधि खेला। चेला गुरू गुरू भा चेला ।
कौन खंड प्रस रहा काई । प्रावै काल, हरि फिरि जाई ॥
चेला सिद्धि सो पाव, गुरु सौ करें अछेद ।
गू रू करै जो किरिपा, पार्थ चेला भेद ।१९।

(१७) तुम्ह ढंत = तुम्हारे द्वारा । श्रोहट = नोट में, दूर । मेरू = मेल मिलाप। मिलहि में मिले = मिलने पर भी (पास होने पर भी) नहीं मिलता। दमयंती मुकुत होत दमन = । है = टता है । (१८) रूप तुम्हार जीडे"फेरि = तुम्हारे रूप (शरीर) में अपने जीव को करके (परकाय प्रवेश करके) उसने मानो दूसरा शरीर प्राप्त किया। (१६) करमुखी काले मुँहाली। गगनेहा = गगन में, स्वर्ग में । करा = कला । चेला सिद्धि सो पावे“भेद = यह शुक का उत्तर है । अछेद = भेद, भेद भाव का त्याग । १७