पृष्ठ:जायसी ग्रंथावली.djvu/४७६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


आखिरी कलाम

पहिले नावें कर लीन्हा। जेइ लिउ दीन्ह, बोल मुख कीन्हा। दिन्हेसि सिर जो पागा। बिन्देसि कया जो पहि बागा ॥ सवार दिन्हेसि नयन जोति, उजियारा । दिन्हेसि देखें कहें संसारा ॥ दिन्हेसि स्टेशन बात जेहि सुनै । दिन्हेसि बुद्धि, ज्ञान बहु गुनै । दिन्हेसि नासिक लीजे बासा । दिन्हेसि मन सुगंध बिरासा॥ दीन्हेसि जीभ बैन रस भावै । दीन्हेसि भुगुति, साध सब रावै । दीन्हेसि दसन, सुरंग कपोला। दीन्हसि अंधेर जे ने लैबोला ॥ दीन्हेसि बदन सुरूप रंग, दिन्हसि माथे भाग । देख़ि दयाल, ‘मुहम्मद, सीस नाइ पद लाग ॥ १ ॥ दीन्हेसि कंठ बोल हि माहां । दीन्हेसि "जादंड, बल बाहर्ता । । दीन्हेसि हिथा भोग जेहि जमा। टीन्हेसि पाँच भूतआातमा ॥ दीन्हेसिम बदन सीत श्री घामू। दीन्हेसि सुक्ख नींद बिसरामू दीन्हेसि हाथ चाह जस कीलैं। दीन्हेसि कर पल्लव गहि लीजें । । दीन्हसि रहस कूद बह तेर ।। दीन्हेमि हरष हिया बह मेरा । दीन्हेसि बैठक आासन मारे । दीन्हसि दूत जो उठे सँभारें । दीन्हे मवै संपूरन काया । दीन्हेसि द चल क पाया ।। दीन्हेमि न नौ फाटका, दिन्हेसि दसवें दुबार । सो अस दानि ‘मुहम्मद, तिन्ह के हीं बलिहार ॥ २ ॥ । मरम नैन कर अँधेरे मा। लेहि विहरे संसार न सूझा। ॥ मरम खेवन कर बहिरं जीना। जो न , कि वीजे साना ॥ मरम जीभ कर 'गे पावा। साध मरे, पे निकर न लगवाँ । मरम बाहें के छले चीन्हा। जेहि बिधि हाथन्ह पाँगुर दीन्हा ॥ मरम कया की भेटा। नित चिरकट जो रहे लपेटा । मरम बैठ उठ तेहि से गुना। जो रे मिरिग करतूरी हाँ ॥ (?) मरम दाहोइ पार्टी के तेहिद * । अपाय भुईं चल बर्दा अति सूख दीन्ह बिधतेऔ सब सेवक ताहि । आापन मरम ‘मुहम्मद, अबहूँ सम्भ . कि नाहि ॥ ३ । (१) बागा = पहनावा, पोशाक। विरासा = विलास। रढूं = रंग जाते हैं। (२) र हम = ग्रानंद। मेर = मेल, भाँति । फटका = नव द्वार । (३) बिहॐ = फूटने पर । सान दी = इशारा कोजिए (तो सम) (धी) । निरकुट = चीथड़ा। विधात् = विधाता ने ।