पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/११०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


ComediaHindi CCA Slid देव और विहारी इस प्रकार मीनवत् अधीन हो रही हैं, उनका घर से विह्वल होकर भागना तो देखिए, कैसा सरस है- घोर तरु नीजन विपति तरुनीजन है, निकसी निसंक निसि भातुर, अतंक मैं : गर्ने न कलंक मृदुल्कनि, मयंक-मुखी , पंकज-पगन धाई भागि निसि पंक मैं। भूषननि भूलि पैन्हे उलटे दुकूल "देव", . ___ खुले भुजमूल, प्रतिकूल बिधि बंक मैं ; चूल्हे चढ़े छाँड़े उफनात दूध भाँड़े , __उन सुत छाँड़े अंक, पति छाँड़े परजंक मैं । लीजिए, रास-विलास का भी ईषत् आभास ले लीजिए; तब अन्यत्र सैर के लिये जाइए- हौंही ब्रज, बृंदावन; मोही मैं बसत सदा जमुना-तरंग श्याम-रंग-अवलीन की ; चहूँ श्रोर सुंदर, सघन बन देखियत , कुंजनि में सुनियत गुंजनि अलीन की। बंसीवट-तट नटनागर नटतु मो मैं , रास के विलास की मधुर धुनि बीन की , भरि रही भनक-बनक ताल-ताननि की तनक-तनक तामें भनक चुरीन की। प्रेमी की उपर्युक्त उक्ति कितनी सार-गर्भित है, सो कहते नहीं बन पड़ता; मानो रास का चित्र नेत्रों के सम्मुख नाच रहा हो । शब्दों के बल से हृदय पर इसी प्रकार विजय प्राप्त की जाती है। (1) प्रेमोन्मादिनी गोपिका की करुणामय कातरोक्ति का चित्रण देवजी ने बड़े ही अच्छे ढंग से किया है । एकांत-सेवन की इच्छुक चबाइनों से तंग आकर गोपी जो कुछ कहती है, उस पर A - -- -