पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/११४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१२० देव और विहारी याभिमान का त्याग करना पड़ा था। विहारीलाल भाषा से भी बढ़कर भाव के भावुक हैं । कंकरीली गली में चलने से प्रियतमा को पीड़ा होती है। वह 'नाक मोरि सीबी' करती है। यह प्रियतम के प्रभूत आनंद का कारण है। रसिक-शिरोमणि विहारीलाल उसी 'सीबी' को सुनने और नाक की मुड़न को देखने के लिये फिर-फिर भूल करके उसी रास्ते से निकलते हैं। फारस का कवि एक अपरिचित बालिका के कथन- मात्र को सुनकर मुग्ध हुआ था। पर विहारीलाल परिचित प्रियतम को संपूर्ण युवती के अंग-संकोच एवं सीबी-कथन से मुग्ध कराते हैं- नाक मोरि सीबी करै जितै छबीली बैल, फिरि-फिरि भूलि वही गहै प्यौ ककरीली गैल । (५) 'रहट-घड़ी' के द्वारा सिंचाई का काम बड़ी ही सरलता से संपादित होता है । अनेक घड़े मालाकर पुष्ट रज्जु से परिवेष्टित रहते हैं एवं कुएँ में काष्ट के सहारे इस भाँति लटका दिए जाते हैं कि एक जल-तल पर पहुँच जाता है। इसी को घुमाकर जब तक बाहर निकालते है, तब तक दूसरा-तीसरा डूबा करता है। इसी भाँति एक निकलता है, दूसरे का पानी नाया जाता है, तीसरा टूबता रहता है, चौथा डूबने के पूर्व पानी पर तैरता रहता है। नेत्र-रूपी रहट भी छवि-रूप जल में इसी दशा को प्राप्त हुआ करते हैं । इसी भाव को कवि ने खूब कहा है- हरि-छांब-जल जब ते परे, तब ते छिनु बिछुरै न । भरत, ढरत, वूड़त, तरत रहट-घरी लौं नैन । (६) यमकालंकार का प्रयोग भी कहीं-कहीं पर विहारीलाल ने बड़ी ही मार्मिकता से किया है । 'उरबसी' के कई अर्थ हैं- (१) अप्सरा-विशेष, (२) मनोमोहिनी, हृदय-विहारिणी तथा (३) श्राभूषण विशेष । इन तीनों ही अर्थों में नीचे-लिखे दोहे में उर्वशी का संतोषदायक समिनेश हुआ है-