पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/१५०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


प्रेम १-देव सच्चे प्रेमी देव ने प्रेम का बड़ा ही सजीव वर्णन किया है। यों तो उनके सभी ग्रंथ सर्वत्र प्रेममय हैं, परंतु 'प्रेम-चंद्रिका' नामक ग्रंथ में उन्होंने प्रेम का वर्णन कुछ क्रम-बद्ध-रूप में किया है। प्रेम का लक्षण, स्वरूप, माहात्म्य, उसके विविध भेद सभी का कवि ने मार्मिकता-पूर्ण वर्णन किया है। विषयमय और शुद्ध प्रेम में क्या अंतर है, यह भी स्पष्ट दिखला दिया है । प्रेम-परीक्षा कितनी कठिन है-उसमें उत्तीर्ण होना किस प्रकार दुस्तर है, यह सब बात पहले से समझा दी है। प्रेम के प्रधान सहायक, नेत्र और मन का विशेष रूप से वर्णन किया है। प्रेम-घर में ठहरना कितना कठिन है, इसका उल्लेख करते हुए कवि कहता है- "एकै अभिलाख लाख-लाख भाँति लेखियत- देखियत दूसरो न "देव" चराचर मैं ; जासों मनु राँचै, तासों तनु-मनु राँचै ; ___ रुचि-भरिकै उपरि जाँचै, साँचै करि कर मैं । पाचन के आगे आँच लागे ते न लौट जाय, साँच देइ प्यारे की सती-लौं बैठे सर मैं ; प्रेम सों कहत कोऊ-ठाकुर, न ऐंठौ सुनि, बैठौ गढ़ि गहरे, तौ पैठौ प्रेम-घर मैं।" सर (सरा-चिता) पर बैठी हुई सती जिस प्रकार, प्रेमावृत होने के कारण, पांचभौतिक तापों की कुछ परवा नहीं करती, उसी