पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/१५२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


देव और बिहारी वात्सल्य-प्रेम में यशोदा और कृष्ण का प्रेम अनोखे ढंग से वर्णित है । कंस के बुलाने पर गोप मथुरा को जा रहे हैं । कदाचित्" कृष्णचंद्र भी बुलाए गए हैं। परंतु माता यशोदा अपने प्रिय पुत्र को वहाँ किसी प्रकार जाने देना पसंद नहीं कर रही हैं । वे कहती हैं-"ये तो हमारी ब्रज की भिक्षा हैं। इन्हे वहाँ कौन पहचानता है ? ये राज-सभा के रहन-सहन को क्या जाने ? इन्हें मैं वहाँ नहीं भेजेंगी।" स्वयं देवजी के शब्दों में- बारे बड़े उमड़े सब जेबे को, हौं न तुम्हें पठवों, बलिहारी; मेरे तो जीवन “देव" यही धनु, या ब्रज पाई मैं भीख तिहारी। जानै न रीति अथाइन की, नित गाइन मैं बन-भूमि निहारी; याहि कोऊ पहिचान कहा ? कछु जाने कहा मेरो कुंजबिहारी ? कितना स्वाभाविक, सरस वर्णन है। जिस कुंजविहारी का पशुओं का साथ रहता है, जिसकी विहारस्थली वनभूमि है, जिस- को राज-समाज में कोई नहीं पहचानता, जो 'अथाइन' की रीति नहीं जानता, वह कुछ भी तो नहीं बतला सकता । राज-सभा में उसके जाने की आवश्यकता ही क्या ? अनिष्ट-भय से माता पुत्र को जाने से कैसे स्वाभाविक ढंग से रोकती है ! गोपियों की सौहार्द- भक्ति के उदाहरण भी देवजी ने परम मनोहर दिए हैं । यथा- ___ xx गैयन-गोहन प्रेम-गुन के पोहन “देव," मोहन, अनूप रूप-रुचि के चाखन चोर; दूध-चोर, दधि-चोर, अंबर-अवधि-चोर, बितहित-चोर, चित-चोर, रे माखन-चोर ।