पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२४३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


भाषा २५१ बूंदाबनवारी बनवारी की मुकुट-वारी, पीत पटवारी वहि मूरति पै वारी हो।' संभव है, उपर्युक्त पद्य-पीयूष भी भिन्न रुचि के भाषाभिमानियों की तृषा निवारण न कर सके। अतः एक छंद और उद्धृत किया जाता है- पॉयन नूपुर मजु बज, कटि-किंकिनि मैं धुनि की मधुराई । साँवरे-अग लसै पट पीत, हिये हुलसै बनमाल मुहाई। माथे किरीट, बड़े रंग चंचल, मंद हँसी, मुख-चंद जुन्हाई ; जै जग-मंदिर-दीपक सुंदर, श्रीब्रज-दूलह देव-सहाई । उपर्युक्त उदाहरणों के चुनने में इस बात का किंचित् विचार नहीं किया गया है कि उनमें केवल अनुप्रास ही अनुप्रास भरा हो, क्योंकि भाषा-माधुर्य के लिये अनुप्रास कोई प्रावश्यक वस्तु नहीं है । हाँ, सहायक अवश्य है । कविवर देवजी अनुप्रास अपनाने में भी अपूर्व कौशल दिखलाते हैं और सबसे प्रशंसनीय बात तो यह है कि इस हस्त-लाघव में न तो उन्हें व्यर्थ के शब्द भरने की आवश्यकता पड़ती है और न शब्दों के रूप ही विकृत होने पाते हैं। इस प्रकार का एक उदाहरण उपस्थित किया जाता है- जोतिन के जूहनि दुरासद, दुरूहनि, प्रकास के समूहनि, उजासनि के आकरनि फटिक अटूटनि, महारजत-कूटनि, मुकुत-मनि-जूटनि समेटि रतनाकरनि । कुटि रही जोन्ह जग लूटि दुति "देव" कमलाकरनि भूटि,टि दीपति दिवाकरनि नभ-सुधासिंधु-गोद पूरन प्रमोद ससि समोद-बिनोद चहुँ कोद कुमुदाकरनि । प्रतिभा-पूर्ण पद्य के लिये जिस प्रकार अर्थ-निर्वाह, सुष्टु योजना, माधर्य एवं प्रौचित्य परमावश्यक हैं, उसी प्रकार पुनरुकि-दोष-परि-