पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


भूमिका भारतवर्ष में समालोचना की प्रथा बहुत प्राचीन काल से चली अाती है, यहाँ तक कि ("शत्रोरपि गुणा वाच्या दोषा वाच्या गरो- रपि)यह नीति-वाक्य भारतवासियों को साधारण-सा जंचता है। संस्कृत-पुस्तकों की अनेकानेक टीकाएं ऐसी है, जिन्हें यदि उन पुस्तकों को समालोचनाएँ कहें, तो कुछ अनुचित नहीं है । आज कल महाकवियों के काव्यों में छिद्रान्वेषण-संबंधी जो लेख निकलते हैं, वे प्रायः इन्हीं टीकाकारों के 'निरंकुशाः कवयः,' 'कवि-प्रमाद' आदि के आधार पर हैं। जिस समय भारतवर्ष में छापे का प्रादुर्भाव नहीं हुआ था और न आज कल के ऐसे समाचार-पत्रों ही का प्रचार था, उस समय किसी पुस्तक का प्रतिष्ठा प्राप्त कर लेना बहुत कठिन कार्य था । निदान यदि एक प्रांत में एक पुस्तक का प्रचार होता था, तो दूसरे में दूसरी का । ग्रंथ विशेष का पूर्णतया प्रचार हो, उसमें लोगों की श्रद्धा-भक्ति बढ़े, इस अभिप्राय से उस समय प्रचलित नाना ग्रंथों के माहात्म्य बन गए। रामायण-माहात्म्य, भागवत-माहात्म्य श्रादि पुस्तकों को पढकर भला रामायण और भागवत पढ़ने की किसे इच्छा न होती होगी ? ऐसी अवस्था में यदि इन्हें हम प्रशंसात्मक समालोचनाएँ मानें, तो कुछ अनुचित नहीं जान पड़ता। संभव है, इसी प्रकार निंदा-विषयक भी अनेका- नेक पुस्तकें बनी हों और जिन ग्रंथों का प्रचार रोकने का उनका श्राशय रहा हो, उनके नष्ट हो जाने पर वे, विशेष उपयोगी न रहने के कारण, प्रचलित न रही हों । जो हो, हमारे पूर्वजों के ग्रंथों में उनकी सत्यवादिता स्पष्ट झलकती है-ऐसा जान पड़ता है कि वे लोग समालोचना-संबंधी लाभों से भली भाँति परिचित थे । श्रीपतिजी ने केशव जैसे महाकवि के काव्य में निर्भीक होकर दोष दिखलाने में केवल अपना पांडित्य ही प्रदर्शित नहीं किया, बरन् अंधपरंपरानुसरण करनेवाले अनेक लोगों को वैसी ही