पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२६३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


परिशिष्ट २७१ क्योंकि मैं 'देव को कवियों का शिरमौर' मानता हूँ। संवत् १६०० के पश्चात् महाराजा मानसिंह ने 'द्विजदेव' के नाम से कविता करने में अपना गौरव समझा । इस उपनाम से इस बात की सूचना मिलती है कि उस समय देव-नाम का खूब आदर था। संवत् ११३४ में शिवसिंह सेंगर ने शिवसिंह-सरोज ग्रंथ प्रका- शित किया । उसमें उन्होंने देवजी को इन शब्दों में स्मरण किया है-“यह महाराज अद्वितीय अपने समय के भाम मम्मट के समान भाषा-काव्य के प्राचार्य हो गए हैं। शब्दों में ऐसी समाई कहाँ है, जिनमें इनकी प्रशंसा की जाय।" संवत् १९५०-५१ में सबसे पहले बाबू रामकृष्ण वर्मा ने अपने भारतजीवन-यंत्रालय से देवजी के भाव-विलास, अष्टयाम और भवानी-विलास ग्रंथ प्रकाशित किए। संवत् १९५४ में कविराज मुरारिदान का 'जसवंत-जसोभूषण' प्रकाशित हुआ। इसमें भी देवजी के उत्तमोत्तम छंदों के दर्शन होते हैं। संवत १९५६ और ५८ में क्रम से 'सुख-सागर-तरंग' और 'रस- विलास' भी मुद्रित हो गए। इसके पश्चात् पूज्यपाद मिश्रबंधुओं ने हिंदी-नवरत्न' में देवजी पर प्रायः ४५ पृष्ठ का एक निबंध लिखा । इसमें लेखकों ने तुलसी और सूर के बाद देवजी को स्थान दिया है। संवत् १९७० में काशी-नागरी-प्रचारिणी सभा ने 'देव-ग्रंथावली' के नाम से देवजी के सुजान-विनोद, राग- रखाकर एवं प्रेमचंद्रिका नामक तनि ग्रंथ और भी प्रकाशित कराए। हमारा विचार है, तब से देवजी की कविता के प्रति लोगों की श्रद्धा बहुत अधिक हो गई है । यहाँ पर यह कह देना भी अनुचित न होगा कि विगत दो-एक साल के भीतर एकाध विद्वान् ने देव की कविता की समालोचना करते हुम यहाँ तक लिखा है कि देव-जैसे तुक्कड़ सरस्वती-कुपुत्र को महाकदि कहना कविता का अपमान करना है । विदेशी विद्वानों में डॉक्टर ग्रियर्सन