पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/३०३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


परिशिष्ट (२) सर्जन जनरल बालफूर-कृत Cyclopaedia of India, (३) वामन-शिवराम श्रापटे-कृत Englsh sanskrit Dictionary. प्रांतीय अजायबघर, लखनऊ में जो चकवा और चकवी नाम के पक्षी रक्खे हुए हैं, उन पर भी (Pasarea ही नाम पड़ा हुआ है। चक्रवाक, मुरग़ाबी, हंस, फ्लैमिंगो इत्यादि सब एक दूसरे से बहुत मिलते-जुलते वर्गों के पक्षी हैं। पक्षिशास्त्रियों ने पक्षियों के जो बड़े-बड़े विभाग (Orders) बनाए है, उनमें से एक का नाम Nntatores है। यह सात वर्गों ( Families) में विभक्त किया गया है। उन वर्गों तथा प्रत्येक वर्गवाले सुपरिचित पक्षियों के नाम नीचे दिए जाते हैं- Orders Natatores- Family (वर्ग) Phoenicopterus ... ... लेमिंगो इत्यादि " Cygnide ... ... हंस इत्यादि " Auseridae ... राजहंस श्रादि ( राजहंस-Anser Indirus) " Anatidae ... ... मुरगाबी, पनडुब्बे, चकवा इत्यादि (चकवा Casarca _rutalia) . Dwand. Chara-Budiygoose. AIRS Cesareat pp.442] +अजायबघर में जो मृत पक्षी रक्खे हुए हैं, वे म्यूजियम कलेक्टर मिस्टर टी०ई० डी० इन्स महाशय की कृपा से अजायबघर के अधिकारियों को प्राप्त हुए थे। नर १०वीं फरवरी १८५८ ई० को गढ़वाल में तथा मादा ध्वी मार्च को खीरी में बंदूक से मारी गई थी।