पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/५१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
५४ देव और बिहारी

देव और विहारी इस दोहे से सतसई एवं विहारीलाल का गौरव है। भाष्यकार ने भी इसकी प्रशंसा में सब कुछ कहा है; पर यह भाव भी सूर-प्रतिभा से बचकर नहीं निकल सका है। देखिए---

      चितई चपल नयन की कोर;
  मनमथ-बान दुसह, अनियार निकस फूटि हिये वहि ओर,
अति व्याकुल धुकि,घरनि परे जिामे तरुन तमाल पवन के जोरः
कहुँ मुरली, कहुँ लकुट मनोहर, कहुँ पट, कहूं चंद्रिका-मोर।
 छन बूड़त, छन ही छन उछरत बिरह-सिंधु के परे झकोर;
 प्रेम-सलिल भाज्यो पीरी पट फट्यो निचोरत अँचरा-छोर।
फुरै न बचन, नयन नहिं उघरत, मानहु कमल भए बिन भोर;
"सूर" सु-अधर-सुधारस सींचहु, मेटहु मुरछा नदकिसोर।
                                  सूरदास

जिन्हें यह देखना हो कि सूरदास का शृंगारी कवियों में भी कौन-सा स्थान है वे कृपा करके एक बार मनोयोगपूर्वक सूरसागर पढ़ें। देखिए, सूरदास का निम्नलिखित वर्णन कितना अनूठा है ? क्या ऐसी कविता सतसई में सर्वत्र सहज सुलभ है। खंडिता के ऐसे अनूठे वचन हिंदी-साहित्य-सूर्य सूरदास के अतिरिक्त और कौन कह सकता है-

     आए कहँ रमारमन ? ठाढ़ मवन काज कवन ?
       करौ गवन वाके भवन, जामिनि जहँ जागे ।
    भृकुटी भई अधोभाग, पल-पल पर पलक लाग,
        चाहत कछु नैन सैन मैन-प्रीति-पागे ।
    चंदन-बंदन ललाट, चूरि-चिह्न चार ठाठ,
        अंजन-रजित कपोल, पीक-लीक लागे ।
    उर-उरोज-नख सासे लौ, कुकुम कर-कमल भरे,
       भुज तटंक-अक उभय अमित दुति बिमागे ।