पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/९८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


काव्य-कला-कुशलता इस अध्याय में अब हम यह दिखलाना चाहते हैं कि उभय कवि- वर काव्य-कला में कैसे कुशल थे। पहले हम देवजी को ही लेते हैं और उनकी अनुपम काव्य-चातुरी के कुछ उदाहरण नीचे देते हैं- १-देव (3) पति निश्चयपूर्वक श्राने को कह गया था, पर संकेत- स्थान में उसे न पाकर नायिका संतप्त हो रही है । उसकी उत्कंठा बढ़ रही है । ग्रीष्म ऋतु की दोपहरी का समय है । इसी काल नायक ने आने का वचन दिया था। कविवर देवजी ने उत्कंठिता नायिका की इस विकलता को स्वभावोक्ति अलंकार पहनाकर सच- मुच ही अलौकिक आनंद-प्रदान करनेवाला बना दिया है । ग्रीष्म- ऋतु की दोपहरी में ठंढे स्थानों पर पड़े लोगों का खर्राटे लेना, वृक्षों की गंभीर छाया में पिकी का ठहर-ठहरकर बोल जाना और विकच पुष्प एवं फल-परिपूर्ण कुंजों में भ्रमर-गुंजार कितना समुचित है। विषमता का आश्रय लेकर देवजी अपने काव्य-चित्र में अपूर्व रंग भर देते हैं । कहाँ तो ग्रीष्म-मध्याहू का ऊपर-कथित दृश्य और कहाँ भोली किशोरी का कुम्हलाया-सा वदन ! बार-बार छत पर चढ़ना, हाथ की ओट लगाकर प्रियतम के आनेवाले मार्ग को निहा- रना और आते न देखकर फिर नीचे उतर आना, इस प्रकार धीरज से पृथ्वी पर चरण-कमलों का रखना कितना मर्म-स्पर्शी है। चिल- चिलाती दोपहरी में प्रखर मार्तड की ज्योति के कारण नेत्रों की झिलमिलाहट बचाने के लिये अथवा लज्जा-संकोच से हथेली की ओट देखना कितना स्वामाविक है। फिर निदाय में मध्याह्न के