पृष्ठ:निर्मला.djvu/११५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
निर्मला
११२
 

सकता,उछलता है और गिर पड़ता है। पङ्ख फड़फड़ा कर रह जाता है। उसका हृदय अन्दर ही अन्दर तड़प रहा था;पर बाहर न जा सकती थी!

इतने में दोनों लड़के रोते हुए अन्दर आकर बोले-भैया जी चले गए! निर्मला मूर्तिवत् खड़ी रही,मानो संज्ञा-हीन हो गई हो। चले गए, घर में आए तक नहींमुझसे मिले तक नहीं चले गए! मुझसे इतनी घृणा! मैं उनकी कोई न सही, उनकी बुआ तो थीं। उनसे मिलने तो आना चाहिए था! मैं यहाँ थीन! अन्दर कैसे कदम रखते? मैं देख लेती न! इसीलिए चले गए!