पृष्ठ:निर्मला.djvu/१६९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
निर्मला
१६६
 

सुघासबसे बड़ा एव यही था कि उसके पिता का स्वर्गवास हो गया था,और वह कोई लम्बी-चौड़ी रकम न दे सकती थी! इतना स्वीकार करते क्यों मेंपते हो? मैं झुछ तुम्हारे कान तो न काट लँगी। अगर दो-चार फिकरे कहूँ,तो इस कान से सुन कर उस कान से उड़ा देना! ज्यादा ची-चपड़ करूँ,तो छड़ी से काम ले सकते हो। औरत-जात डण्डे ही से ठीक रहती है। अगर उस कन्या में कोई ऐव था,तो मैं कहूँगी कि लक्ष्मी भी वेऐव नहीं ! तुम्हारी तकदीर खोटी थी, बस! और क्या? तुम्हें तो मेरे पाले पड़ना था!

सिन्हा-तुमसे किसने कहा कि वह ऐसी थी और वैसी थी ? जैसे तुमने किसी से सुन कर मान लिया, वैसे ही हम लोगों ने भी सुन कर मान लिया!

सुधा-मैं ने सुन कर नहीं मान लिया! अपनी आँखों देखा। ज़्यादा बखान क्या करूँ,मैं ने ऐसी सुन्दर स्त्री कभी नहीं देखी थी!!

सिन्हा ने व्यग्र होकर पूछा-क्या वह यहीं कहीं है? सच बताओ उसे कहाँ देखा? क्या तुम्हारे घर आई थी?

सुवा-हाँ,मेरे घर आई थी;और एक वार नहीं,कई वार आ चुकी है। मैं भी उसके यहाँ कई वार जा चुकी हूँ। वकील साहब की वीवी वही कन्या है,जिसे आपने ऐवों के कारण त्याग दिया!

सिन्हा-सच?

सुधा-विलकुल सच! आज अगर उसे मालूम हो जाय कि