पृष्ठ:निर्मला.djvu/२३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
बीसवां परिच्छेद

न्ता में नींद कब आती है! निर्मला चारपाई पर पड़ी करवटें बदल रही थी। कितना चाहती थी कि नींद आ जाय; पर नींद ने आने की कसम सी खाली थी। चिराग बुझा दिया था, खिड़की के दरवाजे खोल दिये थे, टिक-टिक करने वाली घड़ी भी दूसरे कमरे में रख आई श्री; पर नींद का नाम न था। जितनी बातें सोचनी थीं, सब सोच चुकी-चिन्ताओं का भी अन्त हो गया; पर पलकें न झपकी, तब उसने फिर लैम्प जलाया; और एक पुस्तक पढ़ने लगी। दो ही चार पृष्ठ पढ़े होंगे कि झपकी आ गई। किताब खुली रह गई।

सहसा जियाराम ने कमरे में कदम रक्खा। उसके पाँव थर-थर काँप रहे थे। उसने कमरे में ऊपर-नीचे देखा। निर्मला सोई हुई थी,उसके सिरहाने ताक पर एक छोटा-सा पीतल का सन्दूकचा रक्खा हुआ था। जियाराम दबे पाँव गया, धीरे से सन्दूकचा उतारा और बड़ी तेजी से कमरे के बाहर निकला! उसी वक्त निर्मला की आँखें खुल