पृष्ठ:निर्मला.djvu/२७६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
२७३
चौवीसवाँ परिच्छेद
 

निर्मला-क्या आपको नहीं मालूम है? देने वाले तो आप ही हैं।

मुन्शी-तुम्हारे पास कुछ रुपए हैं या नहीं? अगर हो तो मुझे दे दो,न हों तो साफ़ जवाब दो।

निर्मला ने अब भी साफ जबाव न दिया। बोली-होंगे तो घर ही में न होंगे। मैं ने कहीं और तो नहीं भेज दिए।

मुन्शी जी वाहर चले गए। वह जानते थे कि-निर्मला के पास रुपए हैं। वास्तव में ये भी। निर्मला ने यह भी नहीं कहा कि नहीं हैं, या मैं न दूंगी; पर उसकी बातों से प्रकट हो गया कि वह देना नहीं चाहती।

नौ बजे रात को मुन्शी जी ने आकर रुक्मिणी से कहा-बहिन, मैं जरा बाहर जा रहा हूँ। मेरा विस्तरा भुङ्गी से बँधवा देना; और ट्रक में कुछ कपड़े रखवा कर बन्द कर देना।

रुक्मिणी भोजन बना रही थी,बोली-बहू तो कमरे में है, कह क्यों नहीं देते? कहाँ जाने का इरादा है?

मुन्शी जी-मैं तुमसे कहता हूँ; बहू से कहना होता,तो तुमसे क्यों कहता? आज तुम क्यों खाना पका रही हो?

रुक्मिणी-कौन पकावे? बहू के सिर में दर्द हो रहा है। आखिर इस वक्त कहाँ जा रहे हो?सबेरे न चले जाना।

मुन्शी जी इसी तरह टालते-टालते तो आज तीन दिन हो गए। इधर-उधर घूम-धाम कर देखें,शायद कहीं सियाराम का

१८