पृष्ठ:बुद्धदेव.djvu/२४६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


( २३३ ) माता पितुः उपट्टानं पुत्तदारस्स संगहो। अनाकुला च कम्मन्ता एतं मंगलमुत्तमं ॥ दानं च धम्मचरिया च बातिकानं च संगहो। अनवजानि कम्मनि एतं मंगलमुत्तमं । महामंगलमुक्त। 'धम्मेन माता पितरो भरेय्य, पयोजये धम्मिकं यो वणिज्ज । 'एतं गही वत्तयं अप्पमतो सयं पभे नाम उपति लोकं । धम्भिक सुक्ष। माता पिता का उपस्थान करना, पुत्र और कलत्र का संग्रह करना और कर्म करने से व्याकुल न होना, ये सब उत्तम कल्याण- कारक कर्म हैं । दान देना, धर्माचरण, जातिवालो का संग्रह और भरण-पोपण, अनिंदित कर्मो का करना ये सब श्रेष्ठ मंगलकारक कम हैं। धर्मपूर्वक कर्म से माता और पिता का पालन पोषण करो, धर्मपूर्वक व्यवहार, वाणिज्य और व्यापारादि करो। गृहस्थ पुरुषों को इस प्रकार आलस्य और प्रमाद त्यागकर अपना धर्म पालन करना चाहिए। ऐसा करने से वे स्वयंप्रभ नामक लोक को प्राप्त होते हैं। . इतना ही नहीं, भगवान् बुद्धदेव ने यद्यपि हिंसायुक्त यज्ञों की निंदा की है और ऐसे यज्ञों के याजकों को बुरा कहा है, पर फिर. भी अग्निहोत्र और सवित्री की जो पंच महायज्ञों में आदि और मुख्य कर्म हैं, प्रशंसा की है। उन्होंने लिखा है- अग्गिहुतमुखा यज्ञा सवित्ती छन्दसानं मुखं । ।