पृष्ठ:बुद्धदेव.djvu/९९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


काम-कला करती हुई फिरने लगीं। पर गौतम ने उनकी ओर दृष्टि उठाकर भी न देखा । अंत में जब मार थक गया, तब वह उनके सामने स्वयं उपस्थित हुआ और उन्हें अनेक प्रकार के लौकिक आमोद-प्रमोद की प्रलोभना देने लगा; पर गौतम ने उसकी एक भी न सुनी । फिर उसने गौतम पर ताने मारना आरंभ किया। उस ने कहा-"गौतम, तूने राज्य-सुख अवश्य भोग किया है, तू मोक्ष का अधिकारी कदापि नहीं हो सकता । तूने पुण्य भी.संचय नहीं किया है और न तूने राजा होकर यन्त्र ही किया है । किस वल पर तू मोक्ष की कामना कर मुमुक्षु बन वोधिमूल के नीच वक-ध्यान लगा कर बैठा है ? इस प्रकार मार की बातें सुन गौतम ने अग्नि, वायु, सूर्य, चंद्र, दिशा, प्रदिशा आदि देवताओं को साक्षी देते हुए पृथिवी पर टंकार मारी और कहा- ': . यज्ञो मया यष्टस्त्वमिहात्र साक्षी, . निरर्गलः पूर्वभवेऽनवद्यः । . . तवेह साक्षी न तु कश्चिदस्ति .. . . किंचित्प्रलापेन पराजितस्त्वम् : .. इगं मही सर्वजगत्प्रतिष्ठा अपक्षपाता सचराचरे समा इयं प्रमाणं मम नास्ति मे मृषा . . . साक्षी त्वमस्मिन्मम संप्रयच्छतु ॥ . . मैंने यज्ञं किया, इसके लिये ये सब साक्षी हैं । पर निरगेल और अनेक जन्मों से अननद्य, तेरा कोई साक्षी नहीं है । यह पृथिवी