पृष्ठ:भट्ट-निबन्धावली.djvu/१०७

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।

विशाल वाटिका आवृत है, जहाँ पहुँच बाग के सैलानी को इस श्लोक के भावार्थ ,' का भरपूर अनुभव होता है- "एनपुष्पफजलपरीः कदाप्यदृष्टं वृत च खलु शूकै ।

- उपसम भवन्त वद बबुर कस्म लेभिन ॥

.. इम क्यारी का सब गाटे का गारा कंटकावृत होने से निकम्मा .' 'हो रहा है । जहाँ कहीं कोई पेड़ भी है तो विषफल उसमे फलते हैं, - जिसके खानेवालों को रग-रग मे उन फलों का असर बैर-फूट परस्पर की स्पर्द्धा, ईर्ष्या, द्रोह, मद, मात्सय के सिवाय और कुछ वहाँ हई नहीं। इन फूलों की तीखी माक और इसके फल का कडुया रस दूर- -दूर तक इस सपूर्ण वाटिका में ऐसा व्याप गया है कि समस्त गुण- . . रजित होने पर भी यहाँ के पेड़ केवल फूट के कारण नहीं फरकते। इस गाटे की धरती मे एक अनोखी वात देखने में आई । ईसाइयों की धर्मपुस्तक में लिखा है कि खुदा ने आदम को ज्ञान के पेड़ का फल खाने को मना किया था, पर इसके विरुद्ध यहाँ अज्ञान का वृक्ष न जानिये कहीं से उग पाया है कि जिसने अज्ञान के फल को चक्खा उसमे विज्ञता-संपादन की यावत् चेष्टा और प्रयत्न सव व्यर्थ होता है। प्रिय पाठक ! इस बाग के सैतानी बनते हो तो सावधान रहो, दाचित हो हमारी बात पर ध्यान दो। ऐसी न जानिये कितनी क्यारियां इसमे हैं, उनकी ओर न मुक पड़ना । ऐसा न हो कि उन विषैले फलों का हवा तुम्हे लग जाय और तुम इन फलों के खानेवालों के साथी बन जाप्रो । लो श्रागे चलो, देखो ये कैसी मनोहर क्यारियां है। इसके अनगिनत पेड़ फूल और फलो र लदे लहलहाते हुये कैसी शोभा दे रहे हैं । इसके , फूल-फत उन्हीं को सुलभ हैं जो परिश्रमी, दृढ़सकल्प और उद्यमी हैं, जिनने इतना सा स है कि काम पड़ने पर ' असीम महासागर और दुर्गम खाड़ियों को “गोषपद' गऊ के खुर के समान पार कर डालते हैं। "किं दूरं व्यवसायिनाम्। १ इनका कला-