पृष्ठ:मानसरोवर भाग 3.djvu/२९१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


भाड़े का टटू आगरा कालेज के मैदान में च्या समय दो युवक हाथ से हाथ मिलाये टहल रहे थे। एक का नाम यशवत था, दूसरे का रमेश । यशवत डोल-डौल का ऊँचा और बलिष्ठ था। उसके मुख पर संयम और स्वास्थ्य की कान्ति झलकतो भी । रमेश छोटे कद भौर इकहरे बदन का, तेज-हीन और दुर्घल आदमी था। दोनों में किसो विषय पर बहस हो रही थी। यशवंत ने कहा-मैं आत्मा के आगे धन का कुछ मूल्य नहीं समझता । रमेश बोला-बड़ी खुशी की बात है। बशर्षत- हाँ, देख लेना। तुम ताना मार रहे हो, लेकिन मैं दिखला दूंगा कि धन को फितना तुच्छ समझता हूँ रमेश-सैर, दिखला देना । मैं तो धन को तुच्छ नहीं समझता। धन के लिए मान १५ वर्ष से किता चाट रहा हूँ; धन के लिए मां-बाप, भाई-बन्द सबसे अलग यहाँ पड़ा हूँ; न जाने अभी कितनी सलामियां देनी पड़ेंगो, कितनी खुशामद करनी पड़ेगी। क्या इसमें आत्मा का पतन न होगा ? मैं तो इतने ऊँचे आदर्श का पालन नहीं कर सकता। यहाँ तो अगर किसी मुकदमे में अच्छो रिश्वत पा जाय तो शायद छोड़ न सकें। क्या तुम छोड़ दोगे ? यशवत-मैं उसकी और आँख उठाकर भी न देखू गा, और मुझे विश्वास है कि तुम जितने नोच बनते हो, उतने नहीं हो। रमेश-मैं उससे कहीं नोच हूँ, जितना कहता हूँ। यशवत-मुझे तो यकीन नहीं आता कि स्वार्थ के लिए तुम किसी को नुकसान पहुँचा सकोगे। रमेश-भाई, संसार में आदर्श का निर्वाह केवळ संन्यासो ही कर सकता है; मैं तो नहीं कर सकता । मैं तो समझता हूँ कि अगर तुम्हें धका देकर तुमसे बाजो जोत स, तो तुम्हें जकर गिरा दूंगा। और, बुरा न मानो तो कह दूँ, तुम भी मुझे अर गिरा दोगे। स्वार्थ का त्याग करना कठिन है।