पृष्ठ:मानसरोवर भाग 5.djvu/१९२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


"१८८ मानसरोवर पर अबकी वह मूर्ति इतनी भयकर हो गई कि हरनाथ एक क्षण भी वहाँ खडा न रह सका । भागा, पर बरामदे ही में अचेत होकर गिर पड़ा। ( ४ ) हरनाथ ने चारों तरफ से अपने रुपये वसूल करके व्यापारियों को देने के लिए जमा कर रखे थे। चौधरी ने आँखें दिखाई , तो वही रुपये लाकर पटक दिये। दिल में उसी वक्त सोच लिया था कि रात को रुपये उड़ा लाऊँगा। झूठ-मूठ चोर का गुल मचा दूंगा, तो मेरी ओर सदेह भी न होगा। पर जब यह पेशवदी ठीक न उतरी, तो उस पर व्यापारियों के तगादे होने लगे। वादों पर लोगों को कहाँ तक टालता, जितने बहाने हो सकते थे, सब किये । आखिर वह नौबत आ गई कि लोग नालिश करने की धमकियाँ देने लगे। एक ने तो ३००) की नालिश कर भी दी। बेचारे चौधरी बड़ी मुश्किल में फँसे । दूकान पर हरनाथ वैठता था, चौधरी को .. उससे कोई वास्ता न था, पर उसकी जो साख थी, वह चौधरी के कारण। लोग चौधरी को खरा, लेन-देन का साफ आदसी समझते थे। अब भी यद्यपि कोई उनसे तकाजा न करता था, पर वह सबसे मुंह छिपाते फिरते थे। लेकिन उन्होंने यह निश्चय कर लिया था कि कुएँ के रुपये न छुऊँगा, चाहे कुछ भी पड़े। रात को एक व्यापारी के मुसलमान चपरासी ने चौधरी के द्वार पर आकर हजारों गालियाँ सुनाई । चौधरी को बार-बार क्रोध आता था कि चलकर उसकी मूंछे उखाड़ , पर मन को समझाया “हमसे मतलब ही क्या है, बेटे का कर्ज चुकाना बाप का धर्म नहीं।" जब भोजन करने गये, तो पत्नी ने कहा-यह सब क्या उपद्रव मचा रखा है ? चौधरी ने कठोर स्वर में कहा-मैंने मचा रखा है ? "और किसने मचा रखा है ? बच्चा कसम खाते हैं कि मेरे पास केवल थोड़ा-सा माल है, रुपये तो सब तुमने सांग लिये।" चौधरी-माँग न लेता तो क्या करता, हलवाई की दुकान पर दाटे का फातेहा पढना मुझे पसद नहीं। स्त्री- -यह नाक-कटाई अच्छी लगती है ? +