पृष्ठ:मानसरोवर भाग 5.djvu/२२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१८ मानसरोवर समीप जा पहुंची। पण्डित मोटेरामजी ने उसे आते देखा, तो समझ गये कि अब कुशल नहीं। अपना हाथ छुड़ाकर वगट भागे, पीछे फिरकर भी न देखा। चिन्ता- मणिजी ने बहुत ललकारा , पर मोटेराम के कदम न रुके । चिन्ता०--अजी भागे क्यों, ठहरो, कुछ मज़ा तो चखते जाओ! मोटे० --मैं हार गया भाई, हार गया । चिन्ता-अजो, कुछ दक्षिणा तो लेते जाओ। मोटेराम ने भागते हुए कहा-दया करो, भाई, दया करो। ( ४ ) आठ बजते-बजते पण्डित मोटेगम ने स्नान और पूजा करके कहा - अब विलम्ब नहीं करना चाहिए, फकी तैयार है न ? सोना-फकी लिये तो कवसे वैठी हूँ, तुम्हें तो जैसे किसी बात को सुध ही नहीं रहती । रात को कौन देखता है कि कितनी देर पूजा करते हो । मोटे-मैं तुमसे एक नहीं, हज़ार बार कह चुका कि मेरे कामों में मत चोला करो। तुम नहीं समझ सकतीं कि मैंने इतना विलम्ब क्यो किया । तुम्हें ईश्वर ने इतनी बुद्धि ही नहीं दी। जल्दी जाने से अपमान होता है। यजमान समझता है, लोभी है, भुक्खड़ है । इसी लिए चतुर लोग विलम्ब किया करते हैं, जिसमें यजमान समझे कि पण्डितजी को इसकी सुध ही नहीं है, भूल गये होगे। बुलाने को आदमी भेजें । इस प्रकार जाने मे जो मान-महत्त्व है, वह मरभुखों की तरह जाने में क्या कभी हो सकता है ? मैं बुलावे की प्रतीक्षा कर रहा हूँ। कोई-न-कोई आता ही होगा । लाओ थोड़ी फकी । बालकों को खिला दी है न ? सोना-उन्हें तो मैंने साँझ ही को खिला दी थी। मोटे०~ कोई सोया तो नहीं ? सोना-आज भला कौन सोयेगा ? सब भूख-भूख चित्ला रहे थे, तो मैंने एक पैसे का चवेना मॅगवा दिया। सब-के-सव ऊपर बैठे खा रहे हैं। सुनते नहीं हो, मार-पीट हो रही है। मोटेराम ने दाँत पीसकर कहा--जी चाहता है कि तुम्हारी गरदन पकड़कर ऐंठ दूं। भला, इस वेला चबेना मँगाने का क्या काम था ? चबेना खा लेंगे, तो वहाँ क्या तुम्हारा सिर खायेंगे । छि ! छि !! ज़रा भी बुद्धि नहीं !