पृष्ठ:मानसरोवर भाग 5.djvu/२५४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मानसरोवर कोई तकाजा न करके वह जायदाद ही मांगी जाती है। यदि झिाव के कागजात दिखलाये जायें, तो वे साफ बता देगे कि मैं सारा ऋण दे चुका । हमारे मित्र ने कहा है कि ऐसी अवस्था में वहियों का गुम हो जाना अदालत के लिए एक सबूत होना चाहिए । मैं भी उनकी युक्ति का समर्थन करता हूँ। यदि मैं आपसे ऋण लेकर अपना विवाह करूँ, तो क्या आप मुझसे मेरी नव-विवाहिता वधू को छीन लेंगे ? "हमारे सुयोग्य मित्र ने हमारे ऊपर अनाथों के साथ दगा करने का दोष लगाया है। अगर मुशी सत्यनारायण की नीयत खराब होती, तो उनके लिए सबसे अच्छा अवसर वह था जब पण्डित भृगुदत्त का स्वर्गवास हुआ। इतने विलव की क्या जरूरत थी ? यदि आप शेर को फंसाकर उसके बच्चे को उसी वक्त नहीं पकड़ लेते, उसे वढने और सवल होने का अवसर देते हैं, तो में आपको बुद्धिमान न कहूँगा। यथार्थ बात यह है कि सु शो सत्यनारायण ने नमक का जो कुछ हक था, वह पूरा कर दिया । आठ वर्ष तक तन-मन से स्वामी-सन्तान की सेवा की। आज उन्हें अपनी साधुता का जो फ्ल मिल रहा है, वह बहुत ही दु खजनक और हृदय-विदारक है। इसमे भानुकुवरि का दोष नहीं। वे एक गुण-सम्पन्न महिला हैं ; मगर अपनी जाति के अवगुण उनमे भी विद्यमान हैं। ईमानदार मनुष्य स्वभावता स्पष्टभाषी होता है, उसे अपनी बातों मे नमक- मिर्च लगाने की जरूरत नहीं होती। यही कारण है कि मु शोजी के मृदुभाषी मातहतों को उनपर आक्षेप करने का मौका मिल गया। इस दावे को जड़ केवल इतनी ही है, और कुछ नहीं । भानुकुवरि यहाँ उपस्थित हैं। क्या वे कह सकती हैं कि इस आठ वर्ष को मुद्दत में कभी इस गाँव का जिक्र उनके सामने आया? कभी उसके हानि-लाभ, आय-व्यय लेन-देन की चर्चा उनसे की गई ? मान लीजिए कि मैं गवर्नमेंट का मुला- जिम हूँ। यदि मैं आज दफ्तर में आकर अपनी पत्नी के आय-व्यय और अपने टहलुओ के टैक्सों का पचड़ा गाने लगूं तो शायद मुझे शीघ्र ही अपने पद से पृथक् होना पड़े, और सम्भव है, कुछ दिनों वरेली की विशाल अतिथिशाला में रखा जाऊँ। जिस गाँव से भानुकुँवरि का सरोकार न था, उसकी चर्चा उनसे क्यों की जाती ?" इसके बाद बहुत-से गवाह पेश हुए, जिनमें अधिकांश आस-पास के देहातों के ज़मींदार थे। उन्होंने बयान किया कि हमने मु शी सत्यनारायण को असामियों को अपनी दस्तखतो रसीदें देते और अपने नाम से खज़ाने में रुपया दाखिल करते देखा है। इतने में सध्या हो गई । अदालत ने एक सप्ताह में फैसला सुनाने का हुक्म दिया। - ?