पृष्ठ:मानसरोवर भाग 6.djvu/१८७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मानसरोवर एक आवाज--शराब पीने से बदन में स्फूर्ति श्रा जाती है । एक शंका-सरकार अधर्म से रुपया कमाती है। उसे यह उचित नहीं अधर्मी के राज में रहकर प्रजा का कल्याण कैसे हो सकता है ? दूसरी शका-पहले दारू पिलाकर पागल बना दिया । लत पड़ी तो पैसे की चाट हुई । इतनी मजूरी किसको मिलती है कि रोटी-कपड़ा भी चले और दारू-शराब भी उड़े १ या तो बाल-बच्चों को भूखों मारो या चोरी करो, जुआ खेलो और बेईमानी करो। शराब की दूकान क्या है ? हमारी गुलामी का अड्डा है। चौधरी के उपदेश सुनने के लिए जनता टूटती थी। लोगों को खड़े होने को जगह न मिलती। दिनों-दिन चौधरी का मान बढ़ने लगा। उनके यहाँ नित्य पचायतों की, राष्ट्रोन्नति की चर्चा रहती, जनता को इन बातों में बड़ा आनन्द और उत्साह होता। उनके राजनैतिक ज्ञान की वृद्धि होती। वह अपना गौरव और महत्त्व समझने लगे, उन्हें अपनी सत्ता का अनुभव होने लगा । निरकुशता और अन्याय पर अब उनकी तिउरियों चढ़ने लगीं। उन्हें स्वतन्त्रता का स्वाद मिला । घर की रुई, घर का सूत, घर का कपड़ा, घर का भोजन, घर की अदालत, न पुलिस का भय, न अमलों की खुशामद, सुख और शान्ति से जीवन व्यतीत करने लगे। कितनों ही ने नशेबाजी छोड़ दी और सद्भावों की एक लहर सी दौड़ने लगी। लेकिन भगतजी इतने भाग्यशाली न थे। जनता को दिनों-दिन उनके उपदेशों से अरुचि होती जाती थी। यहाँ तक कि बहुधा उनके श्रोताओं में पटवारी, चौकीदार, मुदरिंस और इन्हीं कर्मचारियों के मित्रों के अतिरिक्त और कोई न होता था। कभी-कभी बड़े हाकिम भी आ निकलते और भगतजी का वहा आदर सत्कार करते । जरा देर के लिए भगतजी के आँसू पुंछ जाते, लेकिन क्षण-भर का सम्मान आठों पहर के अपमान की बराबरी कैसे करता! जिधर निकल जाते उधर ही उँगलियाँ उठने लगतीं । कोई कहता, खुशामदी टटू है, कोई कहता, खुफ़िया पुलिस का भेदी है। भगतजी अपने प्रतिद्वन्द्वी की बहाई और अपनी लोकनिन्दा पर दाँत पीस-पीसकर रह जाते थे। जीवन में यह