पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/१०२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


क्रूसो की बीमारी । ईश्वर का दिया दण्ड है यह मैं कभी न समझता था। पिता की आज्ञा के विरुद्ध आचरण कर के मैं पशु की भाँति सब कष्टों को सहता गया । जब मैंने विपत्ति से छुटकारा पाया तब भी मेरे मन में कृतज्ञता का भाव उदित न हुआ। बीच बीच में बिजली की चमक की तरह हृदय में एक अनिर्वचनीय आनन्द की झलक आ जाती थी, पर वह स्थिर न रहती थी । उस आनन्द के स्थायी करने की चेष्टा करने से कदाचित् प्रेमानन्द प्राप्त हो सकता। भयडूर विपत्ति में जब आशा का क्षीण प्रकाश उदित होता है तब उसे ईश्वर की करुणा समझ कर हृदय में धारण करते नहीं बनता। इस तरह का विचार कभी मेरे मस्तिष्क में आता ही न था । किन्तु इस समय , असहाय अवस्था में, ज्वर से पीड़ित हो कर सामने मृत्यु की विभीषिका देखने लगा । ज्वर की पीड़ा से शरीर दुर्गालनिस्तेज औौर निशक्त हो गया । तब इतने दिनों की निद्रितप्राय धर्मबुद्धि और विवेक कुछ कुछ जाग्रत होने लगा । ज्वर की यातना और विवेक की ताड़ना से मैं उसी प्रज्ञान दशा में ईश्वर की उपासना करने लगा। मैंने ईश्वर से क्या प्रार्थना की, उनसे क्या माँगा, यह स्मरण नहीं । याद केवल इतना ही है कि अश्रुधु से बिछौना और तकिया भीग गया था । इतनी देर में पुध आई कि पिता ने कहा था ‘बाप की बात टालने से भगवान् अप्रसन्न होंगे । और तुम्हारा अकल्याण होगा ' आज मैं इस वाक्य की सच्चाई का अनुभव करने लगा। मैंने खूब ज़ोर से चिल्ला कर कहा-‘भगवन्! इस संकट में तुम मेरी रक्षा करो ' ईश्वर से यही मेरी पहली प्रार्थना थी । ।