पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/१०४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


८६
क्रूसो की बीमारी।

हुई? अथवा ये जो भाँति भाँति के स्थावर, जङ्गम, मनुष्य, पशु- पक्षी आदि देख पड़ते हैं, यही क्या हैं? हम लोग पहले क्या थे? कहाँ से किस तरह आये? वह कौन सी गुप्तशक्ति है जो इन विचित्र पदार्थों की रचना कर के एक अद्भुत कला दिखला रही है? मैंने मन ही मन सोचते सोचते यह निश्चय किया कि वह शक्ति ही परमेश्वर है, वही संसार का कर्ता हर्ता सब कुछ है। उसके इशारे पर, उसके भृकुटि-विलास पर संसार क के सभी काम हो रहे हैं।

यह विचार-परम्परा उत्तरोत्तर मेरे मन में अपना घर बनाने लगी। मैं चिन्ता से व्याकुल हो उठा और दीवार के सहारे धीरे धीरे अपने घर की ओर चला। घर के भीतर आ कर मैं बिछने पर लेट रहा। तब भी मुझे नींद न आई। मैं कुरपी पर बैठ कर सोचने लगा, कल फिर बुखार चढ़ेगा। जी में अत्यन्त डर लगा । एकाएक मुझे यह बात याद हो आई कि ज़िल के लोग किसी औषध का सेवन नहीं करते। सभी रोगों में उनका एकमात्र औषध है तम्बाकू । मेरे साथ भी थोड़े से तम्बाकू के पत्ते थे।

मैं सचमुच ही भगवान के द्वारा प्रेरित हो कर दराज़ के पास गया। दराज़ खोलने पर मुझे देह और मन का औषध एक ही साथ मिला। दराज़ से तम्बाकू और एक धर्मशास्त्र बाइबिलका ग्रन्थ ले कर मैं टेबल पर, जहाँ चिराग रक्खा था, आया। तम्बाकू से ज्वर की चिकित्सा किस तरह की जाती है, यह मैं न जानता था। और तम्बाकू की इस आसुरी चिकित्सा से मेरे घर में फ़ायदा होगा या नुकसान, इसका भी मैं कुछ निर्णय न कर सका तो भी मैंने अनेक उपायों से तम्बाकू सेवन करने का संकल्प किया। कैसा ही