पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/२०९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
१८८
राबिन्सन क्रूसो।

समझा जाता है वही उन लोगों के समाज का अगुवा होगा। तब उन लोगों के गुण-दोष का विचारक मैं कौन हूँ ? मैंने इन बातों के सोच विचार कर तय किया कि जाऊँगा तो ज़रूर, तब शर्त यह है कि जैसा देखूंगा वैसा करूंगा।

चुपचाप वन के भीतर घुस करके हम दोनों आदमी उन असभ्य लोगों के पीछे एक पेड़ की आड़ में जा पहुंचे। फ्राइडे ने झाँक कर देखा और मुझसे कहा,-"वे लोग एक बन्दी को मार कर खा रहे हैं। अब फिर दूसरे को मारेंगे । दूसरा व्यक्ति वही जलमग्न सत्रह गौराङ्गों में का एक है।" अपने देशवासी की ऐसी दुर्दशा की बात सुनकर मेरा अन्तः- करण एकदम विद्रोह से भर उठा। मैंने दूरबीन लगाकर देखा । बन्दी की पोशाक आदि से अनुमान किया कि वह युरोप देशवासी है। एक मज़बूत लता से उसके हाथ-पैर बँधे हैं। वह किनारे पर एक तरफ बालू पर पड़ा है। यह देख कर मैं बीस पच्चीस डग और आगे बढ़ एक झुरमुट की ओट में छिप रहा। तब मेरे और उन असभ्येां के बीच करीब अस्सी गज़ का फासला रहा होगा ।

मैंने देखा, उन्नीस आदमी एक जगह बैठे हैं और दो आदमी उस यूरोपियन को मारने गये हैं। वे दोनों निहुर कर उसका बन्धन खोल रहे हैं। अब विलम्बन करना ठीक नहीं, यह सोच कर मैंने फ्राइडे से कहा-“देखो मैं जैसा जैसा करता हूँ तुम भी वैसा ही करो ।” यह कह कर मैंने एक बन्दूक़ पास रख ली और दूसरी उठाकर निशाना ठीक किया। फ्राइडे ने भी वैसा ही किया। मैंने कहा-"फ़ायर!" दोनों बन्दूकें एक साथ गरज उठीं ।