पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/२२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
१५
क्रूसो का दासत्व

क्रूसो का दासत्व

मैं लन्दन में पहुँचते ही दूर देश को जाने वाले जहाज़ की खोज करने लगा । मैं जिसके जहाज़ पर जाता था वही मेरे कपड़े-लत्ते, भद्रवेष और जेब में रुपया देखकर मेरी ख़ातिर करता था । भाग्यवशात् मैं लन्दन जाकर भद्र लोगों के ही साथ परिचित हुआ । अन्यान्य युवकों की भाँति में कुसंगति में न पड़ा । आफ्रिका महादेश के अन्तर्गत गिनी देश को जाने वाले जहाज़ के अध्यक्ष से मेरी भेंट हुई । पहली बार वहाँ जाने से उन्हें लाभ हुआ था, इस कारण वे फिर वहीं जा रहे थे । वे मेरे देशाटन के शौक की बात सुनकर बोले--यदि तुम मेरे साथ चलना चाहो तो चल सकते हो । न तुम्हें कुछ भाड़ा देना होगा, और न खाने-पीने की कुछ फ़िक्र करनी पड़ेगी । तुम मेरे साथी बनकर चलना । यदि तुम्हारी इच्छा हो तो कुछ तिजारती चीजें भी अपने साथ ले सकते हो। हो सकेगा तो उससे वहाँ तुम्हें दो पैसे का लाभ भी हो जाय ।

मैं तुरन्त उसके प्रस्ताव पर सम्मत हुआ और शीध्र ही उसके साथ मेरी घनिष्ठता हो गई । किन्तु यह सुयोग मेरे लिए कुछ अच्छा न था । इसे मेरा अभाग्य ही कहना ठीक होगा । जब समुद्र-भ्रमण की मेरी दुर्दम्य स्पृहा थी तब क्यों न ऐसा हो । समुद्र-भ्रमण की उत्कट अभिलाषा रहने पर तो मुझे किसी जहाज़ पर नाविक होकर जहाज़ चलाने आदि की अभिज्ञता पहले प्राप्त कर लेनी चाहिए थी । इससे भविष्य में मेरा विशेष उपकार भी हो सकता था । किन्तु मेरे अच्छे कपड़े लत्ते और भद्रवेष मेरे नाविक होने में