पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/२८४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
२६१
दूसरी बार की विदेश-यात्रा ।

दूसरी बार की विदेश-यात्रा । २६१ । तो न सकी पर इशारे से उसने जताया, कि मेरे मरने में अब विलम्ब नहीं है, यह सब चेटा झथा होगी। उसने अपने बेटे को देखने की इच्छा प्रकट की । धन्य माता का हृदय ! आप मृत्यु के मुख में पड़ी थी तो भी सन्तान की एकमात्र चिन्ता उसके मन में थी । उसी रात को उस स्त्री का देहान्त हो गया। अपनी स्नेहमयी माता के यत्न से युवक उतनी बुरी हालत में न था. उसकी दशा कुछ अच्छी थी फिर भी वह बिछने पर बेहोश पड़ा था। उसके मुंह में चमड़े के दस्ताने का एक टुकड़ा था, उसीको वह धीरे धीरे चबा रहा था। कई चम्मच कोल पीने पर उसने आंखें खोलीं । माता की अपेक्षा उसकी चेष्टा कुछ अच्छी थी, इसीसे वह बच गया । फिर दो-तीन चम्मच शोरवा पिलाने से उसने तुरन्त के कर डाली । तब हम लोगों ने दासी की शुषा की ओर ध्यान दिया । वह अपनी स्वामिनी के पास पड़ी थी । गी का चक्कर आने पर जो हालत शरीर की होती है वही हालत उसके शरीर की थी। एक हाथ से वह कुरसी के पाये के ऐसे ज़ोर से पकड़े थी कि उसे हम लोग सहज ही छुड़ा नहीं सके । उसकी दशा देख कर हम लोगों ने समझा कि वह मृत्यु की यन्त्रण से व्याकुल हो रही है, फिर भी उसके बचने का कुछ कुछ लक्षण दिखाई देता था। वह बेचारी भूख से तो कष्ट पा ही रही थी, इसके ऊपर मृत्यु के भय से और आंखों के सामने अपनी स्वामिनी के निराहार के कारण मरते देख कर उसके हृदय में शोक का भारी धक्का लगा था । डालर की चिकित्सा से वह बच तो गईपर उसका स्वभाव उन्मादिनी का स होगया।