पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/२९०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
२६७
द्विप में पुनरागमन ।

पड़ी सब सुनने लगी । इसके बाद आप हमारे उद्धार के लिए आ गये ।

मैंने भूख से मर जाने का ऐसा वर्णन आज तक न सुना था और न ऐसा भयंकर दृश्य ही इसके पूर्व कभी देखा था। उस युवक ने भी ऐसे ही अपने ऊपर बीती कितनी ही बातें कहीं, किन्तु उसे थोड़ा थोड़ा आहार मिलता गया था, इससे उसका वर्णन वैसा लोमहर्षण न हुआ जैसा उस दासी का था ।

द्र ि में पनरTगलन हम लोग रास्ते में तूफान और बादल के साथ लड़ते झगड़ते १६९५ ईसवी की ९० एप्रिल को अपने पुराने आवास- द्वीप के निकट पहुंचे ।ढ़ने पर बड़ी कठिनता से अपने पूर्वप रिचित मित्रों से भेंट हुई । द्वीप के दक्खिन और अपने के पास ही, खाड़ी के सामनेहमने जहाज़ का लंगर डाला। मैंने फ्राइडे से पुकार कर कहा-“तुम बतला सकते हो कि वह कौन सी जगह है १२५ वह उस ओर देखते ही ताली बजा कर नाच उठा“हाँ हाँ, यह वही जगह है ' यह कह कर वह पागल की भाँति हाथमुंह मटकाने लगा । वह जहाज़ से कूद कर, समुद्र तैर कर ही किनारे जाने को प्रस्तुत हुआ। किन्तु हमने उसे रोक रखा । मैंने फ्राइडे से पूछा -'अच्छा बतलाम तो, तुम क्या सोचते हो। यहाँ हम लोग किसीको देख पाईंगे या नहीं ? क्या तुम्हारे बाप से भेंट होगी ?” वह कुछ देर चित्रवत्’