पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/३१९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२६ राबिन्सन क्रसे। की तीन डोंगियाँ और समुद्र में डूब कर मरे हुए दो अस की लाशें बही जा रही हैं । दोप में असभ्यों का दुबारा उपद्रव धीरे धीरे पाँच छः महीने बीत गये । असभ्यों के आने की कहीं कुछ भनक न पाई गई । द्वीपनिवासियों ने समझा कि या तो वे लोग झोप के मामले को भूल गये हैं या भय से इस तरफ़ नहीं आते हैं । एक दिन उन लोगों ने अकस्मात् देखा कि धनुषबाण, लाठी और लकड़ी की तलवार आदि अनेक अस्त्र-शस्त्र लिये असभ्य लोग एक साथ अट्ठाइस डोंगियों पर सवार हो टापू में उतर आये । यह देख कर द्वीपवासियों के भय की सीमा न रही । असभ्य लोग सन्ध्या समय टापू में आ पहुंचे इसलिए द्वीप वालों को सारी रात सलाहविचार करते ही बीती। अन्त में यह तय हुआ कि इतने दिन हम लोग छिप कर ही बेखटके रहे हैं इसलिए अब भी छिपकर रहना ही अच्छा है। यह निश्चय करके सभी ने दोनों अँगरेजों के घर को उजाड़ कर उसका चिह्न तक न रहने दियाऔर बकरों को गुफा के भीतर छिपा कर बन्द कर रक्खा । असभ्य लोग सिर्फ उन्हीं दोनों अँगरेजों के निवासस्थान का पता जानते थे इसलिए वे लोग पहले इसी स्थान पर आक्रमण करेंगे, यह सेच कर हम लोग वहीं एकत्र होकर उनके आने की प्रतीक्षा करने लगे । सुबह होते ही कोई डेढ़ सौ असभ्य वहाँ आकर इकठे हुए हम लोगों ओं के दल में बहुत कम आदमी थे । सत्रह स्पेनियर्डपाँच अँगरेज,