पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/३२१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२७८ राबिन्सन क्रसे। समय प्रथम तीन व्यक्तियों ने झट बन्दूकें भर लीं और एक ही बार गोली बरसा कर उन असभ्यर्थी को छिन्न भिन्न कर डाला। इस अचानक अभिघात का कुछ कारण न समझ कर अव शिष्ट असभ्य लोग किंकर्तव्यविमूढ़ हो रहे । बीच में झाड़ी की ओट रहने के कारण असभ्य लोग किसी को न देख कर शायद यह समझ रहे थे कि ‘देवता का गुप्त बज़ा हम लोगों का नाश करने के लिए उदीप्त हो उठा है ।यदि एट किस इस समय चुपचाप वहाँ से हट जाता तो बड़ा अच्छा होता । असभ्य लेग देवकतृक भय मान कर भाग जाते, किन्तु एटकिंस ने इस विषय में बार बार चिताये जाने पर भी उसका पालन न किया । वह उजडु था न । वहीं रह कर वह फिर बन्दूक भरने लगा । उधर जो असभ्य पीछे से आ रहे थे । उन्होंने एटकिंस प्रवृति को देख कर एकाएक उन पर आक्र मण किया । एटकिंस आदि छः व्यक्तियों ने लगातार गोली बरसा कर बीसपचीस आदमियों को धरती पर लिटा दिया, T भी असभ्य पोछे न हटे । उन्होंने तीर से एक अँगरेज़ को मार डाला, और पटकिंस को भी घायल किया । फिर एक स्पेनियर्ड और एक असभ्य नौकर को भी मार गिराया। वह असभ्य नौकर बड़ा साहसी वीर था । उसने मरते मरते भी सिर्फ लाठी की मार से पाँच दुश्मनों को मार डाला था। हमारे दल वाले भयंकर रूप से आक्रान्त होने पर दौड़ कर एक टीले पर चढ़ गये । हम लोगों ने भागते भागते भी तीन बार बन्दूकें चलाईं । किन्तु असभ्य लोग ऐसे ही थे कि पचाससाठ मनुष्यों को हत और इससे भी अधिक व्यक्तियों को घायल होते देख कर भी हम लोगों का पीछा नहीं छोड़ते