पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/३४७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३२२ राबिन्सन क्रस । चढ़ा लिया गया। अब से वह कुछ कुछ हम लोगों की बात मानने लगा। जहाज़ मज़े में जा रहा है । किन्तु प्रिय सेवक फ्राइडे के वियोग से मेरे चित्त में चैन नहीं। मैंने बड़ी श्रद्धा और सम्मान के साथ समुद्र में उसको प्रवाह किया । उसके मुत शरीर को भली भाँति कपड़े से ढंक कर और उसे एक बक्स में बन्द कर समुद्र में डाल दिया। उसके सम्मानार्थ ग्यारह बार तोप दागी गई । इसके बाद सभी चुप हो रहे । मेरे परम विश्वासी, प्रीति-भाजनस्वामिभक्त, कर्तव्यनिष्ठ, निश्छल, सत्यशील और सहृदय नृत्य की जीवनलीला समाप्त हुई। ऐसा सत्सेवक सौभाग्य से ही किसीको मिलता है । आज बार बार में अपने मन में ये कहने लगा- बहुत दिनों में भ्रमण कर लौटे हम निज गेह। हाय हमारा नृत्य वह चला गया तज देह ॥ क्रसे का गुफर इंजिल में आना बारह दिन समुद्रयात्रा करने के बाद हम लोगों ने अमे रिका का उपकूल देखा। इसके चार दिन बाद हम लोगों ने मंज़िल पहुंच कर लंगर डाला । यह वही जगह थी जहाँ से मेरे सौभाग्य और अभाग्य की सूचना आरम्भ हुई थी । हम लोग ज़िल में आये तो सही किन्तु हम लोगों को स्थल में उतरने की आज्ञा नहीं मिली । मेरे पुराने हिस्सेदार अब भी जीवित थे । मेरे और उनके बीच जो शर्तनामा लिखा गया था वह भी इस समय हम लोगों का कोई उपकार न कर सका। सौदागरों ने हम लोगों के लिए बहुत कुछ सिफ़ा