पृष्ठ:विनय पत्रिका.djvu/२८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२९ विनय-पत्रिका के चरणकमलकी रजका सेवन करो ॥१॥ वे शिवजी कपूरके समान गौरवर्ण हैं, करुणा करनेमें बड़े उदार हैं, इस अनात्मरूप असार संसारमें आत्मरूप सार-तत्व हैं, सोके राजा वासुकिका हार पहने रहते हैं ॥ २॥ वे सुखकी जन्म-भूमि हैं-समस्त सुख उन सुखरूपसे ही निकलते हैं, उनकी अपार महिमा है, वे तीनों गुगोंसे अतीत हैं, सब प्रकारके दिव्य गुगोंके स्वामी हैं, वस्तुतः उनका कोई आकार नहीं है ।। ३ ।। उनके तीन नेत्र हैं, वे मदनका मर्दन करनेवाले महेश्वर अहंकाररूप कोहरेके लिये उदय हुए सूर्य हैं ।। ४ ॥ उनके मस्तकपर सुन्दर वाल चन्द्रमा शोभित है, वे तीनों लोकोंका शोक हरण करनेवाले तया गणोंकेराजा हैं ॥५॥ विधाताने जिनके मस्तकपर अच्छी गतिका कोई योग ही नहीं लिखा, काशीनाथ कृपालु शिवजी उनकी गति हैं- शिवजीकी कृपासे वे भी सुगति पा जाते हैं ॥ ६॥ श्रीशङ्करके समान उपकारीससारमें दूसरा कौन है, जिन्होंने वित्रकी ज्वालासे जलते हुए देव- दानवोंको बचानेके लिये खयं विष पी लिया ॥७॥ अनेक कल्योतक कितने ही उपाय क्यों न किये जायें, शिवजीकी कृपा बिना संसारके असली खरूपका ज्ञान कभी नहीं हो सकता ॥८॥ तुलसीदास कहते हैं कि हे विज्ञानके धाम पार्वती-रमण शङ्कर ! आप ही मेरे भयको दूर करनेवाले हैं ॥ ९॥ [१४] देखो देखो, बन बन्यो आजु उमाकंत । मानों देखन तुमहिं आई रितु वसंत ॥१॥ जनुतनुदुतिचंपक कुसुम-माल बर बसननील नूतन तमाल ॥२॥ कलकदलि जंघा पद कमल लालसूिचत कटि केहरि,गतिमराल॥