पृष्ठ:वैदेही-वनवास.djvu/८८

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ जाँच लिया गया है।
५२
वैदेही-वनवास

करूँगा बड़े से बड़ा त्याग।
आत्म - निग्रह का कर उपयोग।
हुए आवश्यक जन - मुख देख ।
सहूँगा प्रिया असह्य - वियोग ।।९९।।

मुझे यह है पूरा विश्वास ।
लोक-हित-साधन में सब काल ।।
रहेंगे आप लोग अनुकूल ।
धर्म - तत्वों पर ऑखे डाल ॥१००॥

दोहा


इतना कह अनुजों सहित, त्याग मंत्रणा-धाम ।
विश्रामालय में गये, राम - लोक - विश्राम ॥१०१॥