पृष्ठ:सरदार पूर्णसिंह अध्यापक के निबन्ध.djvu/११२

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।

पवित्रता मिलते हैं उनको खायो, स्वर्ग और ईश्वर को अपने तावे और चांदी के रुपयों और सोने के डालरों से खरीदने इधर उधर मत भागो । भूखे मर रहे हो, खुद खाओ और अपने बालबच्चा को खिलानो और कुछ काल के लिये चुप हो जावो । अपने बच्चो को विद्या दान दो, बुद्धि दान दो, यही तुझा [म्हा रा और यही ईश्वर का स्वर्ग है । कहां हैं तुझा [म्हा] रे साधु, जिनके हुकुम से हाथ बांधे ये कलकत्ते के सेठ या पिशावर के ठेकेदार गुलाम फिर रहे हैं, अगर वे साधु हैं तो क्यों नहीं ब्रह्मतेज से इनका शासन करते ? क्यों नहीं ताड़ते ? उल्लुत्रों के स्वर्ग क्यों बनने देते हैं ? हे राम ! इनको क्या हो गया है कि सती स्त्रियों के गहने बिचवा २ कर अपना अमूल्य सिर छिपाने के लिये लाख २ रुपयों की कुटिया बनवा रहे हैं जहां मार्कण्डेय ने अपनी सारी आयु तारों की धीमी २ रोशनी के नीचे काट दी। कौनसे क्षेत्रों से ये रोटी खा रहे हैं ? जहां गरीबों का लहू निचोड़ २ ज़ालिम रोटियां बनवा रहे हैं। बहुत उछले तो पवित्रता के साधन के लिये महाराज पतञ्जलि का ग्रन्थ उठा लिया । होने लगे अब जप तप । माला पकड़ी, आँख मूंद बैठे, ध्यान होने लगा है ! अजी ! ध्यान किस वस्तु तप का, किस स्वरूप को देखने को आँख मूंदी है ? वहाँ तो कुछ नहीं मन कैसे लगे ? एक दो घण्टे मन को वे लगाम दौड़ाकर “शान्तिः शान्तिः शान्तिः” कर योगीजी नज़र ज़मीन पर लगाए हुए हैं। वह किसी अंगरेज के दफ्तर के हैडक्लर्क जा रहे हैं । कलम जब चलती है दूसरों का गला काटती है । लिखते तो ठीक मेलट्रेन की तरह हैं, क्यों न हो ? योग का बल हाथ में है। पतञ्जलि जी महाराज ने अपना ग्रन्थ मनुष्यों के लिये लिखा था। पशु तौ उसका पाठ भी नहीं कर सक्ते सकते। पतञ्जलि महाराज की .११२