पृष्ठ:सरदार पूर्णसिंह अध्यापक के निबन्ध.djvu/७३

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।

कन्या-दान . गिरा देता है । कन्या तो अपने दिल को दे ही चुकी थी; अब इस नौजवान ने आकर अपना दिल अर्पण किया । इस पवित्र प्रेम ने दोनों के जीवन को रेशमी डोरों से बाँध दिया-तन मन का होश अब कहाँ है । मैं तू और तू मैं वाली मदहोशी हो गई । यह जोड़ा मानो ब्रह्म में लीन हो गया; इस प्रेम में कदूरत लेश मात्र नहीं होती । विक्टर ह्य गो (Victor Hugo) ने ले-मित्राबल (Les Miserables) में मेरीयस (Marius) और क्रौसट (Cosett) के ऐसे मिलाप का बड़ा ही अच्छा वर्णन किया है । चाँदनी रात है । मंद मंद पवन चल रही है। वृक्ष अजीब लीला में अासपास खड़े हैं । और यह कन्या और नौजवान कई दिन बाद मिले हैं । मेरीयस के लिए तो कुल संसार इस देवी का मंदिर-रूप हो रहा था। अपने हृदय की ज्योति को प्रज्वलित करके उस देवी की वह भारती करने आया है। कौसट घास पर बैठी है । कुछ मीठी मोठी प्रेम भरी बातचीत हो रही है । इतने में सरसराती हवा ने कौसट के सीने से चीर उठा दिया । जरा सी देर के लिये उस बर्फ की तरह सफेद और पवित्र छाती को नग्न कर दिया । मगर मेरीयस ने फौरन अपना मुँह परे को हटा लिया । वह तो देवी-पूजा के लिये आया है; आँख ऊपर करके नहीं देख सकता । रोमियो और जूलियट नामक शेक्सपियर के प्रसिद्ध नाटक में जूलियट ने किस अंदाज से अपना दिल त्याग दिया और रोमियो के दिल को रानी हो गई ! वे किस्से-कहानियाँ जिनमें नौजवान शाहजादे अपना दिल पहले दे देते हैं अपवित्र मालूम होते हैं; और उनके लेखक प्रेम के स्वर्गीय नियम से अनभिज्ञ प्रतीत होते हैं। कुछ शक नहीं, कहीं कहीं पर वे इस नियम को दरसा देते हैं, परन्तु सामान्य लेखों में पुरुष का दिल ही तड़पता दिखलाते हैं । कन्या अपना दिल चुपके से दे देती है । इस दिल के दे देने की खबर वायु, पुष्प, वृक्ष, तारागण इत्यादि को